Prakruti Ko Gale Lagakar Life Ko Karein Chemical Free Life

Prakruti Ko Gale Lagakar Life Ko Karein Chemical Free Life

प्रकृति को गले लगा कर लाइफ को करें कैमिकल फ्री

डॉक्टर बीमारियों का इलाज खोज रहे हैं लेकिन रोगों का सिलसिला बढ़ता जा रहा है।

आज हर दूसरे घर में डायबिटीज और दिल के मरीज मिल जाएंगे।

आखिर कब हम पूर्ण स्वास्थ्य को प्राप्त कर  पाएंगे?

इसका जवाब खोजने के लिए हमें बैक टू बेसिक्स के सिद्धांत पर काम करना होगा। हमें फिर से कुदरत के करीब जाना होगा।

28 देशों के 174 वैज्ञानिक हाल ही हुए एक शोध के बाद इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि घरों में रोजाना इस्तेमाल होने वाली चीजों में प्रयोग होने वाले कैमिकल्स के संयुक्त प्रभाव से भविष्य में कैंसर होने की आशंका बढ़ जाती है।

इस शोध में 85 कैमिकल्स को शामिल किया गया था।

इसमें से 50 कैमिकल्स ऐसे पाए गए जो कैंसर के शुरुआती स्तर की वजह बन सकते हैं।

13 कैमिकल्स ऐसे पाए गए जो बाकी कैमिकल्स के मुकाबले हमें तेजी से कैंसर की ओर धकेल सकते हैं।

आपको कृत्रिम चीजों के बजाय कुदरती चीजों का इस्तेमाल करना होगा।

अगर आप बनावटी संसार में फंसे रहेंगे तो सच्ची सेहत कभी प्राप्त नहीं कर पाएंगे।

जानकारी होने पर सचेत रहकर खतरों को कम कर सकते हैं। सच्चा स्वास्थ्य आपका इंतजार कर रहा है।

जानते हैं उन तरीकों के बारे में जो सेहत में सकारात्मक बदलाव लेकर आएंगे।

आपको अपने खानपान, रहन-सहन और दिनचर्या में बदलाव करना होगा।

लेकिन इन बदलावों के लिए आपको सबसे पहले अच्छी सेहत के लिए दृढ़ निश्चय करना होगा।

दांतों के लिए नीम की दातुन

कई शोध टूथपेस्ट को कैंसर का कारक बता रहे हैं। ऐसे में नीम की दातुन का इस्तेमाल कर सकते हैं। दांतों के लिए नीम की दातुन काफी फायदेमंद रहती है।

Neem Ki Datun-Neem Ki Datun Se Saf Karen Apne Daant
Neem Ki Datun-Neem Ki Datun Se Saf Karen Apne Daant

 

 

 

 

 

 

 

 

पानी को उबालकर पिएं

ज्यादा मशीनी पानी भी नुकसान दे सकता है। आरओ की जगह पर पानी को अच्छी तरह से उबालकर तांबे के बर्तन में रखकर इस्तेमाल किया जा सकता है।

Pani Ubal Kar Piyen
Pani Ubal Kar Piyen

 

 

 

 

 

 

 

नीम की पत्तियों का जादू

नीम की पत्तियां कीटाणुओं का नाश कर सकती हैं। इन्हें पानी में उबालकर इस्तेमाल में लिया जा सकता है। यह एंटीसेप्टिक लिक्विड का विकल्प हो सकती हैं।

Neem Ki Pattiya Ka Upyog Karen
Neem Ki Pattiya Ka Upyog Karen

 

 

 

 

 

 

 

सूती कपड़े का उपयोग

सूती कपड़े में भी रोटियां रखी जा सकती हैं। रेफ्रिजरेटर के इस्तेमाल को भी सीमित करने की जरूरत है।

Sooti Kapde Pahen
Sooti Kapde Pahen

 

 

 

 

 

 

 

 

 

साबुन के बजाय मुल्तानी मिट्टी लगाएं

साबुनों में कई तरह के कैमिकल होते हैं जो कई बीमारियों का कारण बन सकते हैं। आप साबुन के बजाय मुल्तानी मिट्टी को नहाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर नहाते वक्त सफाई का पूरा खयाल रखा जाए तो वैसे भी साबुन की जरूरत नहीं रहती।

Multani Mitti Ka Prayog Karen
Multani Mitti Ka Prayog Karen

दवाओं का ज्यादा सेवन

थोड़ी-सी परेशानी होने पर दवाइयों के पीछे नहीं भागना चाहिए। बात-बात में पेनकिलर लेना कैंसर के कारक हो सकते हैं। हमें अपनी सहनशीलता बढ़ानी चाहिए। इसके बजाय घरेलू नुस्खों का इस्तेमाल कर सकते हैं।

इनसे ले सकते हैं प्रेरणा

मीडिया सेलिब्रिटी ओपरा विन्फ्रे – दुनिया की मशहूर मीडिया सेलिब्रिटी ओपरा विन्फ्रे ने कुदरती जीवन जीने का फैसला लिया। उन्होंने ऐसी चीजों से दूर रहने का प्रण किया जो जीवन से खुशियों को दूर ले जाती हैं और सेहत को खराब करती हैं।

Oprah Winfrey Celebrity
Oprah Winfrey Celebrity

 

 

 

 

 

 

 

 

 

स्टीव जॉब्स

स्टीव जॉब्स कहते थे कि आप एक कप चाय, रोशनी और संगीत के सहारे भी खुश रह सकते हैं। उनके पुराने घर में कोई फर्नीचर नहीं था। वहां एक लैंप, कुर्सी और बिस्तर थे। उनका पहनावा सादा था, पर विचार बहुत नए। वह नए विचारों के लिए बंद कमरों में रहने के बजाय कुदरत की शरण में जाते थे।

Steve Jobs
Steve Jobs

ग्राहम हिल

ग्राहम हिल कहते हैं कि जीवन में कम सामान, जगह और ऊर्जा से ज्यादा पैसा, अच्छा स्वास्थ्य और खुशियां पाई जा सकती हैं।

Graham Hill
Graham Hill

 

महात्मा गांधी

मिट्टी से तैयार घर में रहकर, बकरी का दूध पीकर और मामूली धोती पहनकर महात्मा गांधी ने देश को आजादी दिलाई। वे पर्यावरण की ताकत को समझते थे।

Mahatma Gandhi-Bapu
Mahatma Gandhi-Bapu

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*